घुटनो के दर्द का घरेलू उपचार – knees pain home remedies

घुटनो के दर्द का घरेलू उपचार

घुटनो के दर्द या कोई भी रोग या बीमारी अचनाक नही आती| जब हम प्रकर्ति के नियमों को भंग करते है, ख़ान पान के ग़लत तरीके अपनाते है, धूम्रपान ओर मदिरपान जैसी ग़लत आदते अपना लेते है या शरीर के किसी अंग का आधिक उपयोग करते है तब हमारे शरीर मे रोग बढ़ जाते है. आधुनिक सुख सुविधा वाला जीवन, आधिक चिकनाई युक्त पदार्थो का सेवन करने से वात तथा रक्त की विक्रति बढ़ती है| जिससे घुटनो में दर्द होता है. अधिकतर वेदना संधियो में होती है जिससे घुटनो मे तेज दर्द होता है. अधिकतर यह परेशानी आलसी ओर मोटे लोगो मे देखी गयी है तथा शरीर का वजन बढ़ने से संधियो पर बोझ बढ़ता है जिससे संधियो का रोग, चोट लगना, लसिका पट्टी का खुरदरा होना, ग़लत ख़ान पान से रक्त में एक प्रकार की खटास बढ़ना, अपचा अन्न ओर अजीर्ण भी इसके कारण है.

Also read : बुढापा दूर रखने के उपाय और यौवन की रक्षा के लिए

ठंडे पेय ओर ग़लत आहार विहार से रक्त मे विकार बढ़ता है| चिकित्सक घुटनो मे भरे द्रव्य को सीरींज़ से खींच कर बाहर निकालते है. ओर पीड़ा कम करने के लिए जुलेकन केन्टाजॉन का मिश्रण संधियो में पहुचाते है, जिससे कुछ राहत मिलती है| पेर कुछ समय मे रोग फिर उभर आता है| इसकी रोकथाम के लिए बाहतर वनस्पतियों का सेवन, भाप का प्रयोग, सूर्य किर्णो की गर्मी व लेप से लाभ मिलता है| खटास, ईमली, कोकम, नींबू, आचार, टमाटर, दही आदि का सेवन ना करें| शरीर के किसी भी भाग मे दर्द होता हे इसका मतलब यह है की उस भाग में कार्बन-डाई-ओक्साइड, पानी तथा अन्य विषाक्त पदार्थ व वायु भर गयी है.

इस आर्टिकल मे हम घुटनो के दर्द के घरेलू उपचार के बारे मे बात करेंगे.

घुटनो के दर्द का घरेलू उपचार knees pain home remedies

आहार द्वारा घुटनो के दर्द का उपचार

१. मेथीदाना को बारीक पीस लें| एक चम्मच मेथीदाना चूर्ण प्रातः ताजे जल के साथ लें| इससे घुटनो के दर्द मे आराम मिलता है.
२. प्रातः खाली पेट ३-४ अखरोट की गिरियाँ अच्छी तरह चबाकर खाएँ|
३. रोज नारियल की गिरी का एक टुकड़ा ज़रूर खाएँ| यदि ताज़ा नारियल ना मिले तो सूखे नारियल की गिरी खाएँ|
४. रात को १०० ग्राम खजूर, एक गिलास पानी में भिगोकर रखें| सुबह खाली पेट इसे चबाकर खाएँ| इससे घुटनो के दर्द मे आराम मिलता है.
५. प्रतिदिन ३- ४ लहसुन की कलियाँ पानी की साथ निगल लें|
६. १०० ग्राम छोटी हरड़ को कूट पीसकर छान लें| रात को सोते समय 5 ग्राम हरड़ चूर्ण गुनगुने पानी या दूध के साथ लें|
७. सोंठ १० ग्राम, अजवाइन १० ग्राम, काला नमक ५ ग्राम, सूखा आँवला चूर्ण २० ग्राम लेकर पीस लें तथा आधा चम्मच रात को सोते समय लें| इससे घुटनो के दर्द मे आराम मिलता है.

८. आधा चम्मच आँवला पाउडर रात को एक गिलास पानी मे भिगो दें| सुबह फिल्टर करके उस पानी को पीएँ|
९. रोजाना ५ पत्ती तुलसी की सुबह खाएँ|
१०. २० ग्राम अजवाइन, ५ ग्राम काला नमक, ५ ग्राम सोंठ, ५ ग्राम काली मिर्च पाउडर मिला कर रखें| प्रतिदिन २ ग्राम यह चूर्ण लें|

सेक द्वारा घुटनो के दर्द का उपचार

१. घुटने के दर्द वेल स्थान पर तेल लगाएं| फिर आक के पत्तो को ग़रम कर उस स्थान पेर रखें ओर उपर से रूई रखकर लाल कपड़े की पट्टी बाँधे| इससे घुटनो के दर्द मे आराम मिलता है.

२. निरगुंडी के ताजे ५ -६ पत्तो को कुचल कर  मिट्टी के घड़े में डालकर ढक्कन लगाकर गरम करें| थोड़ी देर बाद पत्ते गरम होके नरम हो जाएँगे| इन गरम पत्तो को घुटने के दर्द वेल स्थान पर बाँध कर ऊपर से कपड़े की पट्टी बांधें| यह दिन मे २ बार करें|
३. अरंडी के पत्तो को पीस लें, थोड़ा सा सरसो का तेल ओर थोड़ा सा कपूर मिला लें, घुटनों के ऊपर लेप करें व कपड़ा बाँधे| अब इसके ऊपर गरम सेंक करें|
४. २ लीटर पानी मे थोड़ी सी नींम की पत्तिया, थोड़ी सी अजवाइन, मेथीदाना व आधा चम्मच नमक डालकर पानी को उबालें, फिर छान लें| तैयार लिए पानी मे २ नेपकिन डालें व इससे गरम गरम सेक करें|
५. १०० गर्म अजवाइन मे ५ ग्राम सोंठ व ५० ग्राम काला नमक डाल कर सूखी कढ़ाई मे इसे खूब भूने| गरम गरम ही एक रुमाल मे बाँध लें व इससे दोनो घुटनों पेर सेक करें| इससे घुटनो के दर्द मे आराम मिलता है.

विशेष
१. सेंक करने के बाद १० मिनट तक चादर ओढ़ कर लेटें|
२. सेंक करने के बाद १५ मिनट तक कुछ खाएँ पिएं नहीं|
३. तेज हवा मे बैठ कर सेक नहीन करें|

योगा द्वारा घुटनो के दर्द का उपचार

१. घुटने का दर्द ठीक करने के लिए सीधे कमर के बाल लेटें, अक्सर घुटनों को मोडते हुए साइकल की तरह चलाएँ|
२. घुटनों को बिना मोड़ें पाँव ऊपर नीचे २० बार करें|
३. घुटनों को मोदते हुए वज्रासन करें व नीचे गरम तकिया रखें| यह आसन ५ मिनिट तक करें|
४. पेट के बाल लेटकर पैरों को मोड़ें ओर दोनो हाथों से एडियो को पकड़ें|
५. दोनों घुटनों पर लाल रंग की सूती कपड़े की पट्टी बाँधे को कम से कम ६ इंच चौड़ी होनी चहिये| नित्य प्रातः ७ से ७.३० के बीच मे सूर्य के सामने पाँवो को रखें ताकि सूर्य की किरण पैरों पर आराम से पड़ सकें|
६. नित्य रात को तेल मालिश करें| तेल लाल होना चहिए|